Home खेल कुछ ऐसे’ यूसुफ पठान का करियर बीसीसीआई ने बचा लिया, निलंबन के...

कुछ ऐसे’ यूसुफ पठान का करियर बीसीसीआई ने बचा लिया, निलंबन के बावजूद आईपीएल में खेल सकेंगे

93
2
SHARE
thats-how-the-bcci-saved-yosuf-pathan-career-eligible-to-play-in-ipl-despite-of-being-suspended

टीम इंडिया और सक्रिय घरेलू क्रिकेट से दूर चल रहे यूसुफ पठान के लिए मंगलवार का दिन बुरी और अच्छी दोनों ही खबर लेकर आया. बहरहाल बीसीसीआई ने उनके आईपीएल में खेलने का रास्ता साफ कर दिया.

नई दिल्ली: टीम इंडिया और सक्रिय घरेलू क्रिकेट से दूर चल रहे यूसुफ पठान के लिए मंगलवार का दिन बुरी और अच्छी दोनों ही खबर लेकर आया. पहली खबर उनके लिए सुबह-सुबह आयी, जब उन्हें यह खबर मिली कि बीसीसीआई ने बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन को पत्र लिखकर उन्हें जारी घरेलू सत्र के आगे के मैचों में टीम में न चुनने को कहा है. वजह यह रही कि यूसुफ पिछले साल हुए डोप टेस्ट में फेल हो गए. लेकिन कुछ ही घंटे बाद उनके लिए अच्छी खबर आई और बीसीसीआई ने उन्हें बहुत ही बड़ी राहत प्रदान की. बोर्ड ने ऐसा फैसला लिया, जो उन्हें फिर से टीम इंडिया की जर्सी पहना सकता है.

पहले बात बुरी खबर की कर लेते हैं. बता दें कि यूसुफ पठान ने पिछले घरेलू सत्र में बड़ौदा रणजी टीम के लिए केवल एक ही मैच खेला था. दरअसल यूसुफ ने ब्रोजिट नाम की दवा का सेवन किया था. इस दवा में प्रतिबंधित पदार्थ का इस्तेमाल होता है. किसी भी खिलाड़ी को यह दवा लेने के लिए पहले से ही अनुमति लेनी पड़ती है. लेकिन दवा लेने से पहले न तो यूसुफ पठान ने ही इजाजत ली और न ही बड़ौदा टीम के डॉक्टर ने. नतीजा यह रहा कि यूसुफ डोप टेस्ट में फेल हो गए. डोप टेस्ट का रिजल्ट पॉजेटिव आते ही बीसीसीआई ने बड़ौदा एसोसिएशन को जारी सत्र के लिए यूसुफ को टीम में न चुनने का फरमान जारी कर दिया. इसके बाद ही उनके अगले कुछ महीने बाद आईपीएल और आगे टीम इंडिया में खेलने को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए थे.

पहले बात बुरी खबर की कर लेते हैं. बता दें कि यूसुफ पठान ने पिछले घरेलू सत्र में बड़ौदा रणजी टीम के लिए केवल एक ही मैच खेला था. दरअसल यूसुफ ने ब्रोजिट नाम की दवा का सेवन किया था. इस दवा में प्रतिबंधित पदार्थ का इस्तेमाल होता है. किसी भी खिलाड़ी को यह दवा लेने के लिए पहले से ही अनुमति लेनी पड़ती है. लेकिन दवा लेने से पहले न तो यूसुफ पठान ने ही इजाजत ली और न ही बड़ौदा टीम के डॉक्टर ने. नतीजा यह रहा कि यूसुफ डोप टेस्ट में फेल हो गए. डोप टेस्ट का रिजल्ट पॉजेटिव आते ही बीसीसीआई ने बड़ौदा एसोसिएशन को जारी सत्र के लिए यूसुफ को टीम में न चुनने का फरमान जारी कर दिया. इसके बाद ही उनके अगले कुछ महीने बाद आईपीएल और आगे टीम इंडिया में खेलने को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए थे.

मगर पहली मिली बुरी खबर के कुछ ही घंटे बाद उनके लिए और एक और बुरी खबर तो आई, लेकिन यूसुफ जब इसकी गहराई में गए, तो उनकी आंखों से आंसू आ गए. और इसके लिए उन्होंने पत्र लिखकर बीसीसीआई का शुक्रिया भी अदा किया. बिना इजाजत ली गई दवा और यूसुफ पठान के इतिहास को देखते हुए बोर्ड ने उन्हें सजा भी दे दी, लेकिन बोर्ड ने यूसुफ को पूरी तरह से बचा भी लिया. सजा के तहत बीसीसीआई ने यूसुफ पठान को पांच महीने के लिए निलंबित कर दिया, जबकि साल 2012 में आईपीएल में डोप टेस्ट में फेल हुए दिल्ली डेयर डेविल्स के क्रिकेटर और वर्तमान दिल्ली घरेलू टीम के कप्तान प्रदीप सांगवान को 18 महीने का प्रतिबंध झेलना पड़ा था.
दरअसल यूसुफ पठान का यह निलंबन 15 अगस्त 2017 से लागू होगा. बोर्ड ने कहा कि नियमों के अनुसार यूसुफ पर अस्थायी रूप से लगाए गए प्रतिबंध की अवधि का लाभ लेने का उन्हें पूरा हक है, जो उन पर 28 अक्टूबर 2017 से लागू था. इसलिए अब बोर्ड के ताजा निलंबन की अवधि 15 अगस्त 2017 से लागू होकर 14 जनवरी 2018 की आधी रात को खत्म हो जाएगी. इसी के साथ ही यूसुफ पठान न केवल आईपीएल की नीलामी में हिस्सा ले सकेंगे, बल्कि इस टूर्नामेंट और आगे टीम इंडिया के लिए भी खेल सकेंगे.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here