Home उत्तर प्रदेश गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में एक बार फिर मचा कोहराम, चार दिन...

गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में एक बार फिर मचा कोहराम, चार दिन में इतने बच्चों की हुई मौत…

109
1
SHARE
gorakhpurs-brd-hospital-again-once-again-the-death-of-so-many-children-in-four-days

गोरखपुर: अगस्त में गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 60 से ज्यादा बच्चों की मौत पर काफी बवाल हुआ था. तब ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने को लेकर अस्पताल के प्रिंसीपल सहित कई लोगों पर गाज गिरी थी. बाद में सरकार के मंत्री ने अगस्त महीने को जिम्मेदार ठहराया तो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बड़े देश पर ठीकरा फोड़ा.


बी चंद्रकला समेत कई अधिकारियों के यहां CBI की रेड, अखिलेश से हो सकती है पूछताछ


बीआरडी अस्पताल में फिर हुई 57 बच्चों की मौत….

लेकिन अगस्त के बाद भी इस अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत होती रही. और अब खबर आ रही है कि पिछले चार दिनों में इसी अस्पताल में 57 बच्चों की मौत हो गईहै. इनमें 32 बच्चे नवजात बताये जा रहे है जिन्हे पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल के बालरोग विभाग में भर्ती कराया गया था. सबसे ज्यादा मौतें नियोनेटल इंसेंटिव केयर यूनिट में हुई है.

इन तारीखों में भर्ती हुए थे बच्चे…..

इनमें ज्यादातर मौतों की वजह प्रीमेच्योर डिलेवरी और संक्रमण रही. बीआरडी में 28 सितंबर को एनआईसीयू में नौ और पीआईसीयू में छह, 29 सितंबर को एनआीसीयू में आठ और पीआईसीयू में सात. 30 सितंबर को एनआईसीयू में आठ और पीआईसीयू में छह बच्चों की मौत हुई. एक अक्टूबर को एनआईसीयू में सात और पीआईसीयू में छह बच्चों की मौत हुई है.

इन तारीखों में भर्ती हुए थे बच्चे…..

इनमें ज्यादातर मौतों की वजह प्रीमेच्योर डिलेवरी और संक्रमण रही. बीआरडी में 28 सितंबर को एनआईसीयू में नौ और पीआईसीयू में छह, 29 सितंबर को एनआीसीयू में आठ और पीआईसीयू में सात. 30 सितंबर को एनआईसीयू में आठ और पीआईसीयू में छह बच्चों की मौत हुई. एक अक्टूबर को एनआईसीयू में सात और पीआईसीयू में छह बच्चों की मौत हुई है.

नेपाल तक से आते है मरीज……

आपको बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में दूरदराज और नेपाल से भी मरीज आते हैं. कई मरीजों की हालत तो यहां आते-आते बिगड़ जाती है. जिसे संभालना डॉक्टरों के लिए मुश्किल हो जाता है. अगस्त में हुई बच्चों की मौत पर भारी हंगामा हुआ था. अस्पताल पर ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी का बकाया था जिसे कमीशन की वजह से लटकाया जा रहा था.

#News in Hindi up, #latest breaking news in Hindi, #up Samachar, #Hindi Samachar up, #current news in Hindi up,
#UP news in Hindi, #News in Hindi up today live, #Latest & Breaking News in Hindi,#current news in India, #breaking news in Hindi, #all India news in Hindi, #latest news India today, #Latest news in Hindi,

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here